Wednesday, 25 December 2019

Panchayati Raj Vyavastha In Hindi पंचायती राज व्यवस्था नोट्स I गठन I समितियां

By:   Last Updated: in: ,

पंचायती राज नोट्स गठन संरचना आरक्षण कार्य पंचायती राज व्यवस्था पंचायती समितियां



Panchayati Raj Vyavastha Kya Hai Hindi PDF?यहां से डाउनलोड करें इंडियन पॉलीटिशियन महत्वपूर्ण टॉपिक पंचायती राज व्यवस्था का नोट लेकर क्या है जिसको आप के साथ शेयर कर रहे हैं पंचायती राज व्यवस्था जैसे पंचायती राज नोट्स गठन संरचना आरक्षण कार पंचायती राज व्यवस्था प्रमुख समितियां के बारे में महत्वपूर्ण व्याख्या इसमें पढ़ने को मिलेगा

आप सभी के लिए पंचायती राज व्यवस्था से जुड़े अति महत्वपूर्ण 50 प्रश्न उत्तर जो की परीक्षा में कई बार पूछा जा चुका है आप पंचायती राज व्यवस्था इन हिंदी पीडीएफ में नीचे दिए गए लिंक के माध्यम से आप लोगों को क्लिक करना है उसके बाद डाउनलोड होना शुरू हो जाएंगे जिसको आप लोग बाद में पढ़ सकते हैं या कभी भी पढ़ सकते हैं

 Panchayati Raj Vyavastha Kya Hai 

पंचायतों का गठन
 पंचायती राज नोट्स अनुच्छेद 243B पंचायतों का गठन के ग्राम स्तर मध्यवर्ती तथा जिला स्तर के प्रधान करता है तथा जिन राज्यों की जनसंख्या 2000000 से कम है वहां मध्य स्तर पर पंचायत का गठन नहीं किया जाएगा 

  • सबसे निचले स्तर पर ग्राम सभा और ग्राम पंचायत 
  • मध्यवर्ती स्तर पर पंचायत समिति 
  • जिला पंचायत स्तर पर जिला परिषद
पंचायतों की संरचना
  •  अनुच्छेद 243C के अनुसार ग्राम पंचायत के अध्यक्ष का चुनाव ग्राम सभा में पंजीकृत मतदाता द्वारा प्रत्यक्ष रूप से होता है तथा मध्यवर्ती पंचायत जिला पंचायत के अध्यक्षों का चुनाव अप्रत्यक्ष रूप से पंचायत चुनाव द्वारा चुने गए सदस्य द्वारा होता है
  •  ग्राम पंचायत के अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया राज्य द्वारा निर्धारित रीति के अनुसार की जाएगी ग्राम पंचायत के अध्यक्ष मध्यवर्ती पंचायत का सदस्य होता है 
  • जहां मध्यवर्ती पंचायत नहीं है वहां जिला पंचायत का सदस्य होगा तथा मध्यवर्ती पंचायत का अध्यक्ष जिला पंचायत अध्यक्ष होगा तथा उस क्षेत्र के सांसद व विधायक अपने क्षेत्र में मध्यवर्ती स्तर के सदस्य होते हैं तथा राज्यसभा और विधानसभा के सदस्य जहां पर पंजीकृत है उस क्षेत्र के मध्यवर्ती पंचायत के सदस्य होंगे सांसद विधायक को पंचायतों के अधिवेशन में मत देने का अधिकार होता है

स्थानों का आरक्षण 
  • अनुच्छेद 243D के अनुसार प्रत्येक पंचायत में अनुसूचित जातियां अनुसूचित जनजातियों के लिए स्थान आरक्षित होंगे जो कि उनकी जनसंख्या के अनुपात में होगा अगर जनजाति की जनसंख्या 20 परसेंट है तो स्थान भी 20% आरक्षित होंगे तथा यह स्थान तक रानू कर्म के आधार पर आवंटित होंगे
  •  इसी तरह एक तिहाई स्थान अनुसूचित जातियां और जन जातियां के महिलाओं के लिए आरक्षित होंगे तथा प्रत्येक पंचायत के प्रत्यक्ष चुनाव द्वारा भरे जाने वाले पद कुल संख्या का एक बटे 3 भाग स्त्रियों के लिए आरक्षित होंगे जिसमें अनुसूचित जाति जनजाति की स्त्रियों के लिए भी आरक्षित स्थान होंगे 
  • यह आरक्षण ALTERNATE में मिलेगा तथा पिछड़े वर्ग के लिए किसी भी सदस्य समय पंचायत के अध्यक्ष पद के लिए स्थान आरक्षित कर सकेगा और अनुसूचित जातियों के लिए आरक्षण की कोई बात अरुणाचल प्रदेश में लागू नहीं होगी
  •  अगस्त 2009 में केंद्र सरकार ने भी 50% आरक्षण देने की मंजूरी दे दी है 
  • कुछ राज्यों जैसे बिहार केरल मध्य प्रदेश हिमाचल प्रदेश उड़ीसा छत्तीसगढ़ मणिपुर उत्तराखंड राजस्थान में महिलाओं को पंचायती राज व्यवस्था में 50% आरक्षण दिया जाएगा तथा बिहार में सर्वप्रथम 50% आरक्षण महिलाओं को दिया गया था
पंचायत के अनिवार्य कार्य
  •  पेयजल की व्यवस्था करना 
  • प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा का प्रबंधन करना 
  • चिकित्सा एवं स्वास्थ्य की रक्षा की व्यवस्था 
  • सड़क व नालियों को बनवाना हाथ में बाजारों का प्रबंधन करना 
  • सार्वजनिक स्थानों की व्यवस्था करना 
  • महिला एवं बाल कल्याण से जुड़े कार्यों का प्रबंधन करना 
  • लोक व्यवस्था में सरकार को सहायता प्रदान करना 
  • कृषि एवं भूमि विकास करना ग्रामीण विकास के कार्यों को सहयोग प्रदान करना

पंचायत के स्वैच्छिक कार्य 
  • पुस्तकालय एवं वाचनालय की व्यवस्था करना 
  • सड़कों के किनारे पर पौधारोपण करना
  •  मनोरंजन के साधनों का प्रबंधन करना
  •  प्राकृतिक आपदाओं के समय मदद पहुंचाना 
  • रोजगार उन्मुख कार्यों का प्रबंधन करना

74 वें संविधान संशोधन अधिनियम की मुख्य विशेषताएं 
  1. प्रत्येक राज्य में इन का गठन किया जाना चाहिए छोटे शहरी क्षेत्र के लिए नगर पालिका बड़े शहरी क्षेत्र के लिए नगर निगम 
  2. नगरपालिका की सभी SEAT को वार्ड के रूप में जाने वाले नगरपालिका परदेसी के निर्वाचन क्षेत्रों में प्रत्यक्ष निर्वाचन में चुने गए व्यक्तियों से भरा जाएगा
  3.  राज का विधान मंडल विधि द्वारा नगरपालिका प्रशासन में विशेष जानकारी या अनुभव वाले व्यक्तियों को लोकसभा के सदस्यों द्वारा और राज्यसभा के सदस्यों के द्वारा राज्य के परिषद और विधान परिषद के सदस्यों को नगरपालिका प्रतिनिधित्व प्रदान करता है समितियों के अध्यक्ष
  4.  वार्ड समिति का गठन करना
  5.  प्रत्येक नगरपालिका में अनुसूचित जनजाति अनुसूचित जातियों के लिए सीटों को आरक्षित करना
  6.  राज्य विधि द्वारा नगर पालिकाओं को स्वशासन वाले स्थानों के तौर पर काम करने में सक्षम बनने हेतु अनिवार्य शक्तियों को और अधिकार दे सकता है 
  7. राज्य का विधान मंडल विधि द्वारा नगर पालिकाओं को कर लगाने और ऐसे करो शुल्क को टोल और फीस को उचित तरीके से एकत्र करने को विकृत कर सकता है 
  8. प्रत्येक राज्य में जिला स्तर पर जिला नियोजनालय समिति का गठन किया जाएगा ताकि पंचायतों और जिलों की नगर पालिका द्वारा तैयार योजना को लागू किया जा सके और समग्र रूप से जिले के लिए विकास योजना का मसौदा तैयार कर सकें
विकासात्मक कार्य पंचायतों के आर्थिक विकास से जुड़े कार्य को 11वीं अनुसूची में वर्णित किया गया 
  • भूमि सुधार कानून का क्रियान्वयन करना 
  • सिंचाई का प्रबंध करना सार्वजनिक वितरण प्रणाली में सहायता करना 
  • लघु एवं कुटीर उद्योग का विकास करना 
  • तकनीकी प्रशिक्षण एवं व्यवसायिक शिक्षा का प्रबंध करना
ग्राम पंचायत NIDHI KOSH
प्रत्येक ग्राम पंचायत के लिए कुछ होता है जो पंचायत के आय व्यय का लेखा जोखा होता है इसका संचालन ग्राम प्रधान एवं पंचायत विकास पदाधिकारी के माध्यम से होता है 
न्याय पंचायत

 ग्राम वासियों को रास्ता और शीघ्र न्याय प्रदान करने के उद्देश्य 73वें संविधान संशोधन द्वारा एक न्याय पंचायत की व्यवस्था की गई है पराया 34 पंचायत के लिए एक न्याय पंचायत होगी इसके कुछ सदस्य मनोनीत तथा कुछ निर्वाचन द्वारा होगा इसकी अधिकारिता छोटे दीवानी एवं फौजदारी मामलों तक सीमित होगी तथा दंड स्वरूप यह केवल 50 से लेकर ₹8000 तक जुर्माना लगा सकता है

पंचायत क्षेत्र समिति 
  • पंचायती राज व्यवस्था में ग्राम और जिला स्तर के मध्य पंचायत समितियों का गठन किया गया है जो ग्राम व जिला पंचायत के बीच संबंध बना सकें 
  • ग्राम पंचायतों के सरपंच इन समितियों के सदस्य होते हैं तथा इसके अध्यक्ष का चुनाव उन सदस्यों द्वारा प्रत्यक्ष रूप से किया जाता है
  •  इन समितियों का कार्यकाल 5 वर्षों का होता है तथा समय से पूर्व भंग होने की स्थिति में चुनाव 6 महीना के अंदर करा लिया जाएगा

पंचायत समिति के कार्य 

  • ग्रामीण विकास के कार्यक्रम का क्रियान्वयन तथा मूल्यांकन करना 
  • बीज केंद्र का संचालन करना
  •  प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों का संचालन करना है 
  • वितरण तथा गोदाम का निरीक्षण करना 
  • कृषि के लिए ऋण की व्यवस्था करना 
  • कुटीर तथा लघु उद्योगों का विकास करना
  •  शौचालय का निर्माण करना
  •  गोबर गैस तथा धुआं रहित चूल्हा का निर्माण करना
  •  कीटनाशक दवाओं का वितरण

पंचायत क्षेत्र समिति के आय के स्रोत

  •  राज्य सरकार से प्राप्त अनुदान 
  • स्थानीय कर 
  • मंडी उसे प्राप्त फीस 
  • दान एवं चंदा
  •  जिला पंचायत द्वारा दिया गया अनुदान
  • क्षेत्र पंचायत द्वारा लगाए गए कर 
  • घाटो तथा मेलो से प्राप्त आय
  • सरकार द्वारा योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए दी गई धनराशि
इसका और भी डिटेल आप लोग नीचे दिए गए पीडीएफ के माध्यम से और क्वेश्चन आंसर जो नीचे दिए गए माध्यम से आप लोग डाउनलोड कर सकते हैं अगर यह पोस्ट आपको पसंद आया हो तो दोस्तों को साथ जरूर शेयर करें जिससे दोस्त को भी हेल्प हो सके


No comments:
Write comment