Saturday, 19 October 2019

क्रिप्स प्रस्ताव को मुख्य विशेषता का वर्णन करें

By:   Last Updated: in: ,

क्रिप्स प्रस्ताव का विश्लेषण


द्वितीय विश्वयुद्ध की भयंकर ता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही थी सन 1941 स्थिति में धुरी राष्ट्र की ओर से एक मित्र देश रूस उनका शत्रु बन गया और जर्मनी का मुख्य मोर्चा रूs मेल लग गया जापान जो अब तक चुपचाप बैठा था वह भी युद्ध में कूद पड़ा उसकी स्थल और नव सेना पूर्वी दक्षिणी एशिया में बढ़ती जाती थी

नेता चर्चित जो इंग्लैंड के प्रधानमंत्री थे तथा श्री एवरी जो भारत में राजदूत के पद पर विराजमान थे भारत को कोई सुविधा देने के पक्ष में नहीं थे इतना होने के बाद भी उन लोगों ने भारत से मित्रता करने का एक पर्यटन उसी बीच में किया जबकि उन पर विपत्तियों के बादल बरस रहे थे उन्होंने भारत में क्रिप्स मिशन भेजा क्रिप्स मिशन भेजने के कारण निम्नलिखित हैं


  1. अंग्रेजों राजनीतिज्ञों का दबाव

  2. अमेरिकन राष्ट्रपति रूजवेल्ट का दबाव

  3. लोकसभा के सदस्यों का सुझाव

  4. ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्री का सुझाव

  5. जापान का वर्मा की राजधानी पर अधिकार

  6. क्रिप्स मिशन का सुझाव



भारत के भविष्य के संबंध में दिए गए वचनों को पूरा करने के विषय में जो चिंता इस देश तथा भारत में प्रकट की गई है उस पर विचार करते हुए सम्राट की सरकार अस्पष्ट तथा निश्चित शब्दों में उन उपायों को बता देना आवश्यक समझती है भारत में शीघ्रता शीघ्र संघ को जन्म देना है जो एक स्वाधीनता प्राप्त उपनिषद होगा तथा ब्रिटेन साम्राज्य के अन्य पद की सृष्टि से पूरे तौर पर ब्रिटेन तथा वैदिक समस्याओं के संबंध में किसी प्रकार की से भी प्राधीन नहीं होगा इसमें दो प्रकार के सुझाव रखे गए एक प्रकार के सुझाव का संबंध दीर्घकालीन व्यवस्था से तथा दूसरे प्रकार के सुझाव का संबंध तत्कालीन किए जाने वाले समझौते से था




Click Here to Subscribe Our Youtube Channel

Join Here – नई PDF व अन्य Study Material पाने के लिये अब आप हमारे Telegram Channel को Join कर सकते हैं !

किसी भी तरह का समस्या हो तो आप फेसबुक पेज पर मैसेज करें उसका रिप्लाई आपको जरूर दोस्तो आप मुझे ( Goal Study Point ) को Facebook पर Follow कर सकते है ! दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस Facebook पर Share अवश्य करें  क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks!





No comments:
Write comment