C V RAMAN STORY NATIONAL SCIENCE DAY

By:   Last Updated: in: ,


राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 28 फरवरी रमन प्रभाव राष्ट्रीय विज्ञान दिवस भारत 1 886 से प्रतिवर्ष 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में मनाया जाता है प्रोफेसर सीवी रमन ने 1928 में कोलकाता में इसी दिन एक उत्कृष्ट वैज्ञानिक खोज की थी जो रमन प्रभाव के रूप में जाना जाता है और प्रसिद्ध हुआ रमन ने खोज 28 फरवरी 19 30 को की इसीलिए उन्हें 28 फरवरी को राष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है इस कार्य के लिए उन्हें





1930 का नोबेल पुरस्कार भी प्राप्त हुआ वर्ष 1986 में विज्ञान और तकनीकी शिक्षा परिषद भारत सरकार की राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में जाए 28 फरवरी 1987 को विज्ञान दिवस घोषित कर दिया गया और पहली बार 28 फरवरी 1987 को राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया गया इसका मूल उद्देश्य विद्यार्थियों को विज्ञान के प्रति अपनी और आकर्षित करना और नए प्रयोगों के लिए प्रेरित करना तथा विज्ञान और वैज्ञानिक उपलब्धियों केक बनाना विज्ञान संस्थान वैज्ञानिक गतिविधियों से संबंधित कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है वैज्ञानिक ने भाषण निबंध लेखन विज्ञान प्रश्न उत्तर विज्ञान प्रदर्शनी तथा इत्यादि कार्यक्रम पर





जगह जगह आयोजित होते हैं विज्ञान के क्षेत्र में उनका विशेष योगदान के लिए पुरस्कार की घोषणा की जाती है रसायन की आणविक संरचना के अध्ययन के बारे में रमन प्रभाव में प्रभावित साधन है राष्ट्रीय विज्ञान दिवस देश के विज्ञान के क्षेत्र में निरंतर उन्नति का आवाहन करता है और परमाणु ऊर्जा को लेकर लोगों को मन में कायम भ्रमित को दूर करना इनका मुख्य उद्देश्य था इसके विकास को ही हम समाज के लोगों को जीवन अख्तर अधिक से अधिक कुशल बना सकते हैं





SAGIR AHMAD MATHBOOK PDF






1 comment:
Write comment