Saturday, 23 February 2019

मैट्रिक बिहार बोर्ड परीक्षा संस्कृत की रणनीति

By:   Last Updated: in: ,


बिहार मैट्रिक परीक्षा संस्कृत की रणनीति मैट्रिक की परीक्षा छात्रों को जीवन की पहली औपचारिक परीक्षा होती है इसी के परिणाम के आधार पर भविष्य की नींव तैयार होती है संस्कृत एक लोकप्रिय और अंक डाई विषय है यदि सुनियोजित और कारगर रणनीति के साथ गहन अध्ययन किया जाए तो संस्कृत में बेहतर अंग पाया जा सकता है सर्वप्रथम शब्द रूप धातु रूप संधि समास कारक पर अधिक मजबूत पकड़ बना ले मॉडल प्रश्न पत्र को निर्धारित अवधि में निरंतर हल करें व्याकरण और वर्तनी की शुद्धता का खास ख्याल रखें रत्न की मांग के अनुसार उत्तर लिखें





संस्कृत प्रश्नों की प्रकृति





संस्कृत की परीक्षा 100 अंको की होती है जिसमें कुल 2 खंड होते हैं खंड क वस्तुनिस्ट किस्म के 50 अंक के 50 प्रश्न होते हैं यह प्रश्न नाटक तथा व्याकरण से पूछे जाएंगे खंड ख में विशिष्ट किस्म के प्रश्न पूछे जाते हैं इसके तहत अपठित गद्यांश से 13 अंक के प्रश्न होंगे संस्कृत में 8 अंकों का पत्र लेखन 7 अंकों का अनुच्छेद लेखन 6 वाक्य का संस्कृत में अनुवाद अंकों का होगा अंत में लघु उत्तरीय के पाठ्यपुस्तक से 2 अंकों के 8 प्रश्न पूछे जाएंगे इसी प्रकार या 16 अंक का हो जाएगा





संस्कृत की रणनीति





वस्तुनिष्ठ के प्रश्न को हल करने के लिए पीयूषम भाग 2 और व्याकरण के प्रश्न को हल करने के लिए संस्कृत सहचर को बार बार पढ़ना अपेक्षित होगा व्याकरण के शब्द रूप धातु रूप संधि समास कारक उपसर्ग प्रत्यय अवयव आदि से विभिन्न प्रकार के प्रश्न पूछे जाएंगे





अनुच्छेद लेखन के लिए पहले हिंदी में सरल वाक्य लिख ले फिर उनका अनुवाद बार-बार करें और लिखने का अभ्यास करें मॉडल सेट में दिए गए अनुवाद का नियमित रूप से अभ्यास करें पूछे जाने वाले प्रश्नों की प्रकृति कुछ समझने के लिए पिछले वर्षो में पूछे गए प्रश्न पत्र पर अवलोकन करें मॉडल प्रश्न पत्र को निर्धारित अवधि में हल करें व्याकरण की तैयारी के लिए संस्कृत सहचर सहायता ले





परीक्षा के दौरान





खंडवार का निर्धारण कर प्रश्न का उत्तर लिखिए





  • अनुच्छेद अपनी भाषा में लिखने का अभ्यास करें संस्कृत में अधिकतम अंक लाने के लिए लकार लिंग पूर्व विभक्ति पुरुष अनुस्वार विसर्ग हवन आदि पर विशेष ध्यान दें




  • भाषा वर्तनी तथा व्याकरण संबंधित शुद्धता पर ध्यान दें पाठ्यपुस्तक वाले प्रश्नों को हल करने के लिए पूरी किताब बार बार पढ़ें परीक्षा के दौरान एक खंड के उत्तर एक स्थान पर लिखे अपने उत्तर लिखने से पहले प्रश्न पत्र को गौर से पढ़ ले
  • अनुवाद बनाने का प्रयास करें अधिक लंबा उत्तर ना लिखें प्रश्न के उत्तर तथ्यात्मक होनी चाहिए जिन प्रश्नों का संस्कृत भाषा में लिखने के लिए कहा जाए केवल उन्हीं प्रश्नों को संस्कृत में लिखें कारक के सूत्रों का उदाहरण के साथ याद कर ले उपसर्गों के साथ केवल सार्थक शब्दों का ही प्रयोग करें संधि के तहत जिन वर्णन के बीच की संधि हो रहा है इसका ख्याल रखें
  • अव्यि भाव समास में शब्दों के अनुसार बदलता है इसलिए इसका बार-बार अभ्यास करें




क्या करें क्या ना करें





  • प्रतिदिन कम से कम 3 घंटे संस्कृत को प्रश्न को अवश्य हल करें संस्कृत को रुचि के साथ पढ़े
  • व्याकरण में शब्द रूप धातु रूप संधि समास कारक उपसर्ग प्रत्यय कृदंत आदि पर विशेष ध्यान दें विगत प्रश्नों को निर्धारित समय में हल करें
  • परीक्षा के दौरान प्रश्न पत्र को हल करने के लिए 3 घंटे 15 मिनट समय मिलता है 15 मिनट समय का सदुपयोग प्रश्न को ध्यान पूर्वक पढ़ने में करें परीक्षा में किसी भी प्रश्न को ना छोड़ें
  • सरल प्रश्नों को पहले हल करें प्रश्न को हल करने के क्रम में अधिक समय न गवाएं बल्कि आगे बढे
  • अपनी तैयारी के स्तर को परखने के लिए मॉडल प्रश्न पत्र निर्धारित अवधि में हल करें वस्तुनिष्ठ प्रश्नों का क्रम से एक ही स्थान पर संख्या स्पष्ट रूप से लिखें
  • बिहार बोर्ड दैनिक जागरण के आदर्श प्रश्नों को बार-बार हल करें




जरूर पढ़ें









हमारी यह   की पूरी जानकारी मुझे आशा होगी की आपको यह जानकारी बहुत ही अच्छी लगी होगी अगर आपको इसी से सम्बन्धित और भी कुछ जानकारी या अन्य कोई भी जानकारी चाहिए तो नीचे दिए गए तो आप FACEBOOK PAGE के माध्यम से PERSONAL MASSAGE कर सकते है दे सकते हैं।





YOUTUBE पर वीडियो देख सकते है





फेसबुक पेज





INSTAGRAM


No comments:
Write comment