भारतीय संविधान सभा का वर्णंन

By:   Last Updated:


भारतीय संविधान सभा का का निर्माण कैबिनेट मिशन के आधार पर गठन जुलाई 1946 ई ० में किया गया था, जब संविधान सभा में सदस्यो  की संख्या 389 निश्यच की गई थी सबसे ज्यादा ब्रिटिश प्रांतो से २९२,चीफ ऑफ़ कमिश्नर से 4 एवं 93 देशी रियासतों से थी ,कैबिनेट  मिशन के अनुसार इसका चुनाव जुलाई 1946 ई ० में संविधान सभा की चुनाव हुआ , जिसमे कुल 389 सदस्यों में से 296 सदस्य का चुनाव किया हुआ ,इसमें कोंग्रस को 208 मुस्लिम लीग को 73 स्थान एवं 15 अन्य डेल से थे, तथा स्वतंत्र उम्मीदवार चुने गए,





9 दिसंबर 1946 ई ० को संविधान सभ की  प्रथम  बैठक हुए यह बैठक दिल्ली के कौंसिल चैम्बर के पुस्तकालय में हुआ ,जिसमे सबसे बुजुर्ग सदस्य डॉक्टर सच्चितानन्दन सिन्हा को सभा से अस्थाई अध्यक्ष चुना गया जो केवल दो दिन के लिए चुने गयेथे, मुसलिम लीग ने इस बैठक को वहिष्कार किया और पाकिस्तान के बिलकुल अलग संविधान की मांग शुरू कर दी ,हैदराबाद एक ऐसे रियाशत थी जिसकी प्रतिनिधि संविधान सभा में शामिल नहीं किया गया था, प्रांतो या देशी रियासतों को जनसँख्या के अनुपात संविधान सभा में प्रतिनिधि दिया गया , उस समय इसकी संख्या  10 लाख आबादी पर एक आवंटन कियाग गया था, ,प्रांतो को प्रतिनिधित्व में तीन समुदाय शामिल थे जिसको जनसंख्या के आधार पर किया गया था  जिसमे प्रमुख मुस्लिम , सिक्ख एवं साधारण थे, 





11 दिसंबर 1946 ई ० को डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद को स्थाई अध्यक्ष बनाये गए जो बिहार के मुंगेर जिले के रहने वाले थे ,उनकी पढाई मुज़फ्फर के लंगट सिंह कॉलेज से हुई थी , संविधान सभा की कार्यवाही 13 दिसंबर 1946 को जवाहर लाल द्वारा पेश किये गए उद्देश्य पर शुरू किया गया था ,22 जनवरी 1947 को  प्रस्ताव की स्वीकृति के बाद संविधान सभ के निर्माण हेतु अनेक समिति का गठन किए गए ,जिसमे प्रमुख समितियां निचे है,





समिति                                                                   अध्यक्ष 





वार्ता समिति  या संचालन                                                                        राजेंद्र परसाद 





संघ सविधान समिति                                                                               जवाहरलाल नेहरू 





प्रांतीय समिति                                                                                         सरदार बलल्भ भाई                                                                                                                  पटेल 





प्रारूप समिति                                                                                          भीमराव अम्बेडकर 





संघ शक्ति समिति                                                                                    जवाहर लाल नेहरू 





3 जून 1947 ई ० की योजना के अनुसार संविधान सभा की बटवारा हो जाने के बाद भारतीय संविधान में कुल सदस्य की संख्या 324 बची थी ,जिसमे 235 स्थान प्रांतो के लिए और 89 भारत के राज्यों के लिए थे, देश के बँटवारा के बाद संविधान सभा का पुनर्गठन ३१ अक्टूबर 1947 को किया गया था, 31 दिसम्बर 1947 को संविधान में कुल सदस्यों की संख्या 299 थी, 





संविधान सभा को निर्माण में कुल 2 वर्ष 11 महीने और 18 दिन लगे ,संविधान में कुल बहस 114 दिन चली थी ,संविधान में कुल मिलाकर 6396729 रूपये खर्च किये गए, लगभग में कहा जाये तो 64 लाख ,संविधान  को 26 नवम्बर 1949 को संविंधान सभा द्वारा पारित कर दिए गए, उस समय इसमें कुल 22 भाग ,395 अनुच्छेद और 8 अनुसूचियाँ थी वर्तमान समय में 22 भाग ,395 अनुच्छेद और 12 अनुसूची है, संविधान सभा की अंतिम बैठक 24 जनवरी 1950 को गई ,उसी दिन संविधान सभा द्वारा डॉक्टर राजेंद्र  प्रसाद को   भारत के प्रथम राष्र्ट्पति चुना गया ,26 जनवरी 1950 को संविधान  लागु किया गया।,





MAHESH KUMAR BARWAL CHEMISTRY





MAHESH KUMAR BARNWAL ECONOMY





MAHESH KUMAR BARNWAL WORLD GEOGRAPHY





MAHESH KUMAR BARWAL INDIAN GEOGRAPHY





MAHESH KUMAR BARWAL HISTORY-





MAHESH KUMAR BARWAL HISTORY -2





MAHESH KUMAR BARWAL HISTORY -3





MAHESH KUMAR BARNWAL PHYSICS





MAHESH KUMAR BARWAL BOOK PDF





BPSC MAINS SYLLABUS


No comments:
Write comment