6 महापुरुष के बारे में जानिए ,कुछ बाते जो आपके हौसला


1  नेताजी सुभाष चंद्र बोस -





वे  एक महान देश भक्त तथा क्रन्तिकारी पुरुष थे उन्होंने राष्ट्रीय आंदोलन में महत्वपूर्ण नभूमिका निभाई ,1943 में जापान भागकर आजाद हिन्द फौज की पुनर्गठन किया ,आजाद हिन्द सरकार की स्थापन की थी , इस फौज ने अंग्रेजी सेना के छक्के छुरा दिया था ,उनकी मुर्त्यु पर विवाद है ,उनकी मुर्त्यु अनुमान है की 1945 में एक हवाई जहाज की दुर्घटना में उनकी मुर्त्यु हो गयी ,





2 वीर कुंवर सिंह 





इनका जन्म बिहार के आरा जिला स्थित  जगदीशपुर ग्राम में हुआ था ,उन्होंने 1857 के सिपाही विद्रोह महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी ,उन्होंने दानापुर की क्रन्तिकारी सेना का नेतृत्व किया था तथा कुछ समय के लिये आरा जिला में अंग्रेज राज्य को समाप्त कर दिया था ,उन्होंने अंग्रेजी सेना का डटकर मुकाबला किया था तथा उसे कई जगह परास्त भी किया था गंगा पार करते समय उनके बांह में गोली लग गई तब उन्होंने एक बांह काटकर गंगा में बहा दिए थे ,उन्होंने बांह काटकर इसलिए हटाए क्योकि उनको हाथ में अंग्रेजी गोली लगी थी ,22 अप्रैल 1858  को उन्होंने पुनः जगदीशपुर पर अधिकार कर लिया ,लेकिन 24 घंटे बाद ही अंग्रेजी सेना वहां पहुंच गई ,तीन दिनों तक युद्ध करते रहने के बाद के वे स्वर्ग सिधार गए ,वे महान देशभक्त थे ,





3 लक्ष्मीबाई 





लक्ष्मीबाई झाँसी की रानी थी ,वह कुशल शासक एवं वीर योद्धा थी ,उन्होंने 1857 के विद्रोह के समय अंग्रेजी सेना का डटकर विद्रोह किया ,उन्होंने 1857 के विद्रोह में झांसी से नेतृत्व  किया ,उनका नाना साहब के नतिनी थी, नाना साहब कानपूर से 1857 के विद्रोह किया ,रानी की गिनती उस समय के सर्वोच्च क्रन्तिकारी में की जाती थी,18 जून 1858 के युद्ध करती हुई वीरगति को प्राप्त हुआ। ,





4 दादाभाई नौरोजी 





दादाभाई नौरोजी का नाम  भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के शैशव काल के नेताओं में सर्वप्रथम है ,उन्हें प्यार तथा सादर से भारत का ओजश्वी पितःम्ह खा जाता है ,उन्हों ने 1886 ,1893 और 1906 में कांग्रेस के सभापति भी किया था , वे उदारवादी नेता में थे ,उन्होंने देश के राजनितिक उन्नति ,शिक्षा ,एवं संस्कृति के प्रशसक थे ,उन्हें अंग्रेजो की न्यायप्रियता में विश्वास कियता था ,इनके नेतृत्व में कॉंग्रेस ने उदारवादी युग पदार्पन किया तथा स्वदेशी आंदोलन ,बहिष्कार आंदोलन अदि कई क्रन्तिकारी कार्यक्रमों को अपनाया पहले भारतीय थे ,जिन्हे ब्रिटिश लोकसभा का सदस्य चुना गया र्था ,उनको GRAND OLD MAN के नाम से भी जाना जाता है ,





5 गोपाल कृष्ण गोखले 





गोपाल कृष्ण गोखले को भारतीय राजनीती के महान नेता ,व्यवसायिक ,आदर्शवादी उदार बुद्धिजीवी तथा राजनितिक गुरु माना जाता है ,उनको महात्मा गाँधी के गुरु भी थे ,वे 1902 में राजकीय विधायिका परिषद के सदस्य नियुक्त हुए थे ,जहा कर्जन की प्रतिगामी निति का डटकर मुकाबला  किया था ,1905 में कॉंग्रेस के अध्यक्ष बने ,1912 में वे दक्षिण अफरीका गए जहां रंग भेद निति के विरुद्ध गाँधी जी के साथ दिया था ,गाँधी ने उन्हें अपना राजनितिक गुरु माना था ,गोपाल कृष्ण गोखले अंग्रेजो की न्यायिक में विश्वास करते थे ,उन्होंने सुधार की एक योजना तैयार की थी जो गोखले की राजनितिक वषियतनामा के नाम के प्रकशित हुआ ,वे एक सच्चे देशभक्त थे,





6 महात्मा गाँधी 





महात्मा गाँधी जिन्हे बापू के नाम से भी जानते है ,महात्मा गाँधी जिन्हे राष्ट्रपिता भी  खा जाता है ,गांधीजी का जन्म 2  अक्टूबर 1869 को गुजरात के प्रोबन्दर में हुआ था ,गाँधी जी का पिता का नाम करम चंद्र गाँधी था ,उनक पूरा नाम मोहन दास करमचंद्र गाँधी था ,उन्होने भरत को आजाद कराने में महत्वपूर्ण भूमिक निभाई


Biology GK 1000 Most Important Question Answer in Hindi


Most Important Science Questions in Hindi For Railway RRB NTPC Group D


1000+ Most Asked Question Answer of History of Modern India


UPSC/IAS व अन्य State PSC की परीक्षाओं हेतु Toppers द्वारा सुझाई गई महत्वपूर्ण पुस्तकों की सूची


Top Motivational Books in Hindi – जो आपकी जिंदगी बदल देंगी


Click Here to Subscribe Our Youtube Channel


Join Here – नई PDF व अन्य Study Material पाने के लिये अब आप हमारे Telegram Channel को Join कर सकते हैं !


किसी भी तरह का समस्या हो तो आप फेसबुक पेज पर मैसेज करें उसका रिप्लाई आपको जरूर दोस्तो आप मुझे ( Goal Study Point ) को Facebook पर Follow कर सकते है ! दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस Facebook पर Share अवश्य करें  क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks!


No comments:
Write comment